बिलगेट्स का संक्षिप्त परिचय और माइक्रोसॉफ्ट का इतिहास The Introduction Of Bill Gates And The History Of Microsoft In Hindi





माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक और अमेरिकन बिजनेस मैगनेट तथा कंप्युटर उद्दमि सॉफ्टवेयर डबलपर का पूरा नाम विलियम हेनरी गेट्स हैं तथा इनका निकनाम ट्रे हैं यह नाम बिल गेट्स को इनकी दादी ने दिया थाबिल गेट्समाइक्रोसॉफ्ट  के संस्थापक तथा साथ साथ एक सॉफ्टवेयर डबलपर भी (software Engineer) हैं और उनके बचपन के दोस्त तथा बिजनेस पार्टनर मिस्टर पॉल एलन है

https://www.earnbazar.co.in/2021/10/billgate.ka.parichay.aur.microsoft.ka.itihas....html


बिल गेट्स जन्म 28 अकटुबर 1955 को वाशिंगटन यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका मे हुआ था इनके पिता का नाम विलियम हेनरी गेट्स सीनियर हैं और माता का नाम मेरी गेट्स हैं इनकी प्रारम्भिक पढ़ाई लिखाई वाशिंगटन के लेक्साइड स्कूल (Lakeside School) मे हुआ था


बिल गेट्स पढ़ाई लिखाई मे काफी बुद्धिमान और तेज थे 1967 मे बिल गेट्स ने अपना हाईस्कूल की पढ़ाई शुरू किया और 1600 पूर्णांक मे से 1590 अंक प्राप्त करके अपनी बुद्धिमता का परिचय दिया

यह वह समय था जब इंसान पहली बार चाँद पर गया था जो की यह मिशन कंप्युटर के मदद से ही सफल हुआ था और उसी दौरान सेटल (settle) नामक वाशिंगटन की एक कंपनी ने लेक्साइड स्कूल (Lakeside School) को अपने कंप्युटर विद्यार्थियों को सीखाने और जानने के लिए दिया था


और 
बिल गेट्स पहले से ही किसी भी चीज के बारे मे ज्यादा से ज्यादा जानकारी प्राप्त करने के लिए उत्सुक रहते थे और इसी लिए उन्होंने अपना दाखिल कंप्युटर क्लास मे करवा लिया और बहुत जल्द ही बिलगेट्स की रुचि कंप्युटर मे बढ़ने लागि और उन्हे हमेशा यह जानने की इच्छा जागृत रहती थी की आखिर कंप्युटर काम कैसे करता हैं और इसीलिए वे अपना ज्यादा से ज्यादा समय कंप्युटर क्लास मे ही बिताते थे इसके चलते बिल गेट्स की मुलाकात पॉल एलन से हुई पॉल एलन भी कंप्युटर मे काफी रुचि रखते थे

जिसके कारण वे दोनों लोग एक अछे दोस्त बन गए और 1970 मे बिल गेट्स अपने दोस्त पॉल एलन के साथ मिलकर 15 साल के उम्र मे (Tarff O Data) टराफ़ओडाटा नामक एक सॉफ्टवेयर बनाया जो यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका के यातायात परिवहनों (traffic) को संचालित करता था

बिल गेट्स ने इस सॉफ्टवेयर को 20000$ डोलर मे बेच दिया और यह बिलगेट्स की पहली कमाई थी इससे वे बहुत खुश थे और 1970 मे बिलगेट्स ने हावर्डयूनिवर्सिटी मे एडमिसन ले लिया और अभी भी बिलगेट्स अपना  
ज्यादा से ज्यादा समय हावर्डयूनिवर्सिटी के कंप्युटर क्लास मे ही बिताते थे

 और काफी मेहनत के साथ पढ़ाई करते थे और 1974 मे बिल गेट्स को एक मगजीन मिली जिसके कवर पेज पर दुनिया मे सबसे पहले बनने वाला मिनी कंप्युटरअलटेयर 8800 कंप्युटर (The Altair 8800 Computer) की घोषणा की गई थी यह खबर सुनकर बिलगेट्स अपने दोस्त पॉल एलन के पास गए और उन्हे सब कुछ बताया वे दोनों इस बात से बहुत खुश हुए और बिल गेट्स तथा पॉल एलन नेघोषणा किया की हम एक सॉफ्टवेयर पर काम कर रहे हैं\

और हम अलटेयर 8800 कंप्युटर किट के लिए सॉफ्टवेयर बनाएगे जो अलटेयर 8800 कंप्युटर किट को ऑपरेट करेगा अलटेयर 8800 कंप्युटर किट (The Altair 8800 Computer kit) की कंपनी ने इस प्रस्ताव को स्वीकार किया

अब बिलगेट्स ने और पॉल एलन ने मिलकर 2 महिने तक दिन रात मेहनत करके एक सॉफ्टवेयर बनाया और फरवरी 1975 मे बिल गेट्स पॉल एलन ने अपने सॉफ्टवेयर को द अलटेयर 8800 कंपनी को टेस्ट कराने गए तो

इस सॉफ्टवेयर को द अलटेयर 8800 कंप्युटर मे इंस्टाल किया गया और यह सॉफ्टवेयर पूर्ण रूप से काम करना शुरू कर दिया यह बिलगेट्स के जिंदगी का सबसे बेहतरीन पल था जो आज एक कंप्युटर उद्दमि के रूपमे पूरे विश्व मे प्रसिद्ध व बहुत ही चर्चित हैं 

माइक्रोसॉफ्ट का इतिहास

माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना 4 अप्रैल 1975 को नयूमैक्सिक यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका मे बिलगेट्स और पॉलएलन के द्वारा  किया गया इन्होंने शुरुआती दिनों मे दुनिया की सबसे बड़ी कंप्युटर निर्माता कंपनी  आईबीएमके साथ डील कियाऔर आईबीएम के कंप्युटर के लिए एमएस डॉस (MS DOS) नामक ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर बनाया जो आईबीएम के कंप्युटरओ को ऑपरेट करता था आईबीएम ने इस सॉफ्टवेयर को 50000$ मे खरीदना चाहा


लेकिन 
बिल गेट्स ने इस प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया और एक प्रस्ताव रखा जिसमे आईबीएम को अपनी कंपनी द्वारा बनाए गए सभी कंप्युटरओ के पीछे कुछ लाइसेंस फी चुकनी पड़ती थी इस प्रस्ताव को आईबीएम ने स्वीकार करते हुए एमएस डॉस को खरीद लिया

देखते ही देखते कंप्युटर उपयोगकर्ताओ की संख्या इतनी अधिक हो गई की आईबीएम और माइक्रोसॉफ्ट दोनों आसमान की उचाइयों को छूने लगीऔर इस प्रकार बिलगेट्स माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के प्रेसीडेंट और पॉलएलन (Executive voice president) बन गए 1983 मे माइक्रोसॉफ्ट का टर्नोवर 4 मिलियन डोलर से बढ़कर 16 मिलियन डोलर हो गया इसी बीच पॉलएलन कैंसर नामक बीमारी के शिकार हो गये

जिसके कारण पॉलएलन ने  माइक्रोसॉफ्ट  को छोड़ दिया और अब बिल गेट्स  माइक्रोसॉफ्ट  के एकलौते मालिक बन गए तथा 1985 मे  माइक्रोसॉफ्ट  का टर्न ओवर 140 मिलियन डोलर हो गया अचानक  ने माइक्रोसॉफ्ट के साथ चीटिंग किया और उसने खुद का ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर OS/2 बना लिया


और 
माइक्रोसॉफ्ट को आईबीएम से बाहर कर दिया लेकिन माइक्रोसॉफ्ट हर नहीं मानी और अपने सॉफ्टवेयर को अपग्रेड करना शुरू कर दिया और 1986 मे  माइक्रोसॉफ्ट  ने  माइक्रोसॉफ्ट  विंडो मार्केट मे उतारा

जिसमे लोग अपने कंप्युटर को बहुत ही आसानी से माउस के मदद से कंप्युटर को चला सकता था

और इसी साल बिलगेट्स ने अपनी कॉम्पनी  माइक्रोसॉफ्ट  को सार्वजनिक कर लिया और लगातार अपने सॉफ्टवेयर को अपग्रेड करते रहे और जब उन्होंने विंडो7 ऑपरेटिंग सिस्टम मार्केट मे उतारा उस समय बिलगेट्स दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बन गए


और इसी प्रकार आज भी निरंतर विंडोज़ को अपग्रेड किया जा रहा हैं जिसके वजह से आज मार्केट मे विंडोस के लाटेस्ट (version) उपलब्ध हैं

Microsoft window 7


Microsoft window10


Microsoft new version window 11


आदि मार्केट मे उपलब्ध हैं और 1994 मे बिलगेट्स ने 37 साल के उम्र मे 28 वर्षीय मेलिंडा फ्रेंच के साथ सदी कर लिया और अब उन्हे 2 बेटियाँ और एक बेटा हैं बिलगेट्स ने अपने सम्पति का सिर्फ 10% हिस्सा ही अपने बच्चों को दिया हैं

और बाकी 90%सम्पति को जनता मे वापस करने को कहा हैं और विलगेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट का सीईओ सत्य नडेला को बनाया हैं जो की एक भारतीय हैं और अब बिलगेट्स अपने वाइफ मेलिंडा गेट्स के साथ मिलकर एक  The Bill & gates of foundation नाम से एक फाउंडेशन चला रहे हैं जिसमे वे बेसहारा लोगों को सहारा तथा अनाथ बच्चों को शिक्षा और भोजन उपलब्ध कर रहे हैं    


           
      

Post a Comment

Previous Post Next Post